राजनीति

क्या राहुल गांधी लेंगे नेता प्रतिपक्ष की जिम्मेदारी, इनकार किया तो अखिलेश यादव को मौका संभव

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एनडीए का नेता चुना जा चुका है। उन्होंने राष्ट्रपति को अपना इस्तीफा सौंप दिया है।
लोकसभा चुनाव परिणाम आने के बाद नई सरकार के गठन की तैयारियां शुरू हो गई हैं। ताजा खबर है कि 18वीं लोकसभा के गठन की प्रक्रिया को आगे बढ़ाने के क्रम में आज मुख्य चुनाव आयुक्त राजीव कुमार, चुनाव आयुक्त ज्ञानेश कुमार और सुखबीर सिंह संधू नवनिर्वाचित सांसदों की सूची लेकर राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू से मुलाकात करेंगे। इसके बाद ही राष्ट्रपति सबसे बड़ी पार्टी को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित करेंगी।

इस बार कांग्रेस ने नेता प्रतिपक्ष बनने लायक संख्या हासिल कर ली है। साथ ही राहुल गांधी को लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष (LoP) बनाने की मांग भी उठने लगी है। इसका फैसला कांग्रेस संसदीय दल की बैठक में किया जाएगा।
इस बारे में राहुल गांधी की ओर से कोई संकेत नहीं मिला है। वैसे यूपीए-2 के कार्यकाल में राहुल गांधी को मंत्रिमंडल में स्थान देने की मांग उठी थी, लेकिन उन्होंने इनकार कर दिया था। इस बार भी यदि राहुल गांधी जिम्मेदारी लेने से बचते हैं तो अखिलेश यादव को नेता प्रतिपक्ष बनाया जा सकता है।

अब 7 जून को भाजपा और एनडीए संसदीय दल की बैठक होगी। इसके बाद एनडीए की ओर से सरकार बनाने का दावा पेश किया जाएगा। इस बार केंद्र में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में गठबंधन की सरकार बनने जा रही है, जिसमें नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू और चंद्रबाबू नायडू की पार्टी टीडीपी की भूमिका अहम होने जा रही है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button