अन्य

पहली बार बैंकों को तीन लाख करोड़ रुपये से अधिक का लाभ; आईटी कंपनियों के तुलना में तिगुना मुनाफा

For the first time, banks' profit exceeds Rs 3 lakh crore; Triple profit compared to IT companies

बैलेंसशीट में सुधार के दम पर देश के बैंकिंग क्षेत्र ने पहली बार तीन लाख करोड़ रुपये से ज्यादा का मुनाफा कमाया है। सरकारी और निजी बैंकों का लाभ सालाना आधार पर 40.90′ फीसदी बढ़कर 2023-24 में 3.1 लाख करोड़ रुपये पहुंच गया। 2022-23 में यह 2.2 लाख करोड़ रुपये रहा था। खास बात है कि बीते वित्त वर्ष में बैंकों ने आईटी कंपनियों से ज्यादा मुनाफा कमाया है। तीन लाख करोड़ रुपये का यह आंकड़ा मोटे तौर पर बीते वित्त वर्ष की शुरुआती तीन तिमाहियों के दौरान सभी सूचीबद्ध कंपनियों के मुनाफे के बराबर है। 2023-24 में सूचीबद्ध आईटी सेवा कंपनियों का शुद्ध लाभ करीब 1.1 लाख करोड़ रुपये रहा है।
आंकड़ों के मुताबिक, कुल मुनाफे में सरकारी बैंकों (पीएसबी) की हिस्सेदारी 45.80 फीसदी यानी 1.42 लाख करोड़ रही। यह 2022-23 की तुलना में 34 फीसदी अधिक है। निजी बैंकों का मुनाफा 42 फीसदी बढ़कर 1.7 लाख करोड़ पहुंच गया, जो कुल मुनाफे का 54.83 फीसदी है।
निजी बैंकों के साथ अंतर घटा रहे पीएसबी हाल के वर्षों में पीएसबी अपनी बैलेंसशीट में सुधार कर और कमाई बढ़ाकर निजी बैंकों के साथ लाभ के अंतर को कम कर रहे हैं। तीन वर्षों में सरकारी बैंकों का शुद्ध लाभ चार गुना से ज्यादा बढ़ा है। कई बैंकों ने पेंशन के लिए एकमुश्त प्रावधान नहीं किया होता तो पीएसबी और ज्यादा लाभ कमाते।
आंकड़ों के मुताबिक, 2017- 18 में सरकारी बैंक 85,390 करोड़ रुपये घाटे में थे। 2023- 24 में कुल 12 सरकारी बैंकों ने रिकॉर्ड मुनाफा कमाया है। जिन बैंकों के मुनाफे में 50 फीसदी से ज्यादा की बढ़ोतरी देखने को मिली है, उनमें बैंक ऑफ इंडिया, बैंक ऑफ महाराष्ट्र और इंडियन ओवरसीज बैंक शामिल हैं।
पीएम नरेंद्र मोदी ने इस उपलब्धि और बैंकिंग की लंबी यात्रा पर कहा, बैंकिंग क्षेत्र ने 10 वर्षों में अच्छा प्रदर्शन किया है। यूपीए के समय फोन बैंकिंग के कारण बैंक घाटे और एनपीए से जूझ रहे थे। गरीबों के लिए बैंकों के दरवाजे बंद थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button